August 24, 2016

आशाएँ खिलें दिल की-इक़बाल २००६

नए ज़माने की फिल्म से एक आशावादी गीत सुनते हैं.
ये है फिल्म इकबाल से जिसे के के और क्लिंटन सेरेजो
ने गाया है. श्रेयस तलपड़े और नसीरूदीन शाह पर इसे
फिल्माया गया है.

गीत लिखा है इरफ़ान सिद्दीकी ने और इसे संगीत में बाँधा
है सलीम सुलेमान ने.



गीत के बोल:

आशाएं आशाएं आशाएं
आशाएं आशाएं आशाएं

कुछ पाने की हो आस आस
कुछ अरमां हो जो ख़ास ख़ास
आशाएं आशाएं आशाएं

हर कोशिश में हो वार वार
करे दरियाओं को आर पार
आशाएं आशाएं आशाएं

तूफानों को चीर के
मंजिलों को छीन ले
आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी
आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी
हो ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ
हो ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ

उड़ जाए ले के ख़ुशी
अपने संग तुझको वहाँ
जन्नत से मुलाक़ात हो
पूरी हो तेरी हर दुआ

आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी
आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी

आशाएं आशाएं आशाएं

गुज़रे ऐसी हर रात रात
हो ख्वाहिशों से बात बात
आशाएं आशाएं आशाएं
ले कर सूरज से आग आग
गाये जा अपना राग राग
आशाएं आशाएं आशाएं
कुछ ऐसा करके दिखा
खुद खुश हो जाए खुदा

आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी
आशाएँ खिले दिल की
उम्मीदें हँसे दिल की
अब मुश्किल नहीं कुछ भी
नहीं कुछ भी

हो ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ
हो ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ
आशाएं....उम्मीदें
……………………………………………………
Ashayen khilen dil ki-Iqbal 2006

Artists: Shreyas Talpade, Naseeruddin Shah, Shweta Prasad, Pratiksha Lonkar

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP