August 30, 2016

चाँद है वही-परिणीता १९५३

इस फिल्म से आपने एक गीत सुना है अभी तक.दूसरा लगे हाथ
सुन लीजिए. भारत व्यास गीतकार हैं, अरुण कुमार संगीतकार
और गीता दत्त गायिका. लोकप्रिय कर्णप्रिय गीत है.

गीत सरल सा है जिसे गुनगुनाना आसान है. अभी तक हमने कई
ऐसे गीत देखे जिनमें मीना कुमारी के लिए लता ने गाने गाये.
आज चेंज के लिए गीता दत्त वाला गीत सुनवा रहे हैं आपको. ये
फिल्म बिमल रॉय द्वारा निर्देशित है.




गीत के बोल:

चाँद है वही
चाँद है वही सितारें हैं वही गगन
फिर भी क्यों उदास है
उदास मेरा मन
उदास मेरा मन
चाँद है वही

कौन था मिला मुझे
जो मिल के खो गया
कौन था मिला मुझे
जो मिल के खो गया
कौन मेरे पास आ के
दूर हो गया
फूल है वही
फूल है वही
बहारें हैं वही चमन
फिर भी क्यों उदास है
उदास मेरा मन
उदास मेरा मन
चाँद है वही

आज मेरे मन की
बाँसुरी भी मौन है
आज मेरे मन की
बाँसुरी भी मौन है
जिस को ढूँढते मेरे
नयन वह कौन है
राग है वही राग है
वही पराग है वही पवन
फिर भी क्यों उदास है
उदास मेरा मन
उदास मेरा मन
चाँद है वही
…………………………………………
Chand hai wahi-Parineeta 1953

Artist: Meena Kumari

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP