September 2, 2016

दिल तो दिल है-कब क्यूँ और कहाँ १९७०

एक अलग फ्लेवर वाला रोमांटिक गीत सुनते हैं सन १९७० की
फिल्म कब यूँ और कहाँ से. अनजान रचित इस गीत का संगीत
कल्याणजी आनंदजी ने तैयार किया है. आपने हसरत जयपुरी
के लिखे रोमांटिक गीत पिछले दिनों काफी सुन लिए हैं.

धर्मेन्द्र और बबीता की जोड़ी पर इसे फिल्माया गया है. बबीता
एक ऐसी अभिनेत्री हैं जिनकी जोड़ी विशेष किसी नायक के साथ
नहीं बनी और उन्होंने अपने दौर के सभी नायकों के साथ १-२
फ़िल्में कीं. गीत में एक कुत्ता भी आपको दिखेगा जो भौंक कर
नायक नायिका को उठा देता है.




गीत के बोल:

दिल तो दिल है
दिल तो दिल है किसी दिन मचल जायेगा
एक दिन ये इरादा बदल जायेगा
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
दिल तो दिल है
दिल तो दिल है किसी दिन मचल जायेगा
एक दिन ये इरादा बदल जायेगा
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
दिल तो दिल है

ऐसा इशारा होगा होगा
दिल ये हमारा होगा होगा
जाने जिगर माना तेरा
पत्थर जिगर है पत्थर जिगर
लेकिन मेरी आहों में है
इतना असर हाँ इतना असर
धीरे धीरे
ओ धीरे धीरे ये पत्थर पिघल जायेगा
एक दिन ये इरादा बदल जायेगा
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
दिल तो दिल है

जादू चलेगा धीरे धीरे
गुस्सा ढलेगा धीरे धीरे
माहजबीं ये प्यार की
नाज़ुक उमर है नाज़ुक उमर
आयेगा दिल किसी पे कहाँ
किसको खबर है किसको खबर
दिल तुम्हारा
ओ दिल तुम्हारा किसी दिन फिसल जायेगा
एक दिन ये इरादा बदल जायेगा
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
दिल तो दिल है
दिल तो दिल है किसी दिन मचल जायेगा
एक दिन ये इरादा बदल जायेगा
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
चाहे हाँ कहिये चाहे ना कहिये
दिल तो दिल है

…………………………………………………….
Dil to dil hai-Kab kyon aur kahan 1970

Artists: Dharmendra, Babita

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP