September 24, 2016

पयाम-ए-इश्क मोहब्बत हमें पसंद नहीं-बाबर १९६०

अनूठे और दुर्लभ गीतों का दीवानापन जारी है बदस्तूर और इस
सिलसिले में अब हम आपको सुनवायेंगे सन १९६० की फिल्म
बाबर से एक गीत सुधा मल्होत्रा का गाया हुआ.

साहिर की रचना है और रोशन का संगीत. फिल्म बाबर के प्रमुख
कलाकार हैं जागीरदार और अज़रा.





गीत के बोल:

पयाम-ए-इश्क़ मुहब्बत हमें पसन्द नहीं
पयाम-ए-इश्क़ मुहब्बत हमें पसन्द नहीं
ये दिल्लगी ये शरारत हमें पसन्द नहीं

बजा नहीं था इज़हार बेक़रारी का
लिहाज़ कुछ तो किया होता पर्दादारी का
हया से इतनी बग़ावत हमें पसन्द नहीं
पयाम-ए-इश्क़ मुहब्बत हमें पसन्द नहीं

हमीं को हँसते सितारों ने भी नहीं देखा
हमीं को हँसते सितारों ने भी नहीं देखा
नज़र मिला के बहारों ने भी नहीं देखा
किसी निगाह से दिलवत हमें पसन्द नहीं
ये दिल्लगी
ये दिल्लगी ये शरारत हमें पसन्द नहीं

जो तख़्त-ओ-ताज के वारिस हैं उन का प्यार ही क्या
बदलने वाली निगाहों का ऐतबार ही क्या
हज़ूर की ये इनायत हमें पसन्द नहीं
पयाम-ए-इश्क़ मुहब्बत हमें पसन्द नहीं
.......................................................................
Payam-e-ishq mohabbat hamen pasand nahin-Babar 1960

Artists: Azra, Jagirdar

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP