September 25, 2016

फिर नैन बाँवरे भर भर आये-दो दिल १९४७

गायिका सुरैया का पूरा नाम है सुरैया जमाल शेख. सन १९२९ में
गुजरावालां में जन्मी सुरैया का गायन कैरियर सन १९४२ से शुरू
हुआ जब उन्होंने महताब नामक एक्ट्रेस के लिए पार्श्व गायन किया.
बाल कलाकार के रूप में काम करते हुए उन्होंने अपने गाने भी गाये.
संगीत की शिक्षा उन्हें बाल्य काल में ही मिलना शुरू हो गयी थी.
डांस उन्होंने सीखा मुमताज़ अली से जो मशहूर कॉमेडियन महमूद
के पिता हैं.

सन १९३७ की फिल्म उसने क्या सोचा से बतौर बाल कलाकार उनके
एक्टिंग कैरियर का आगाज़ हुआ. अपने समय की सबसे मशहूर
गायिका-नायिका के बारे में चर्चा करेंगे आगे, फिलहाल एक गीत सुनें
फिल्म दो दिल से दीनानाथ मधोक का लिखा हुआ जिसे गोविन्दराम
ने संगीत से संवारा.

गीत में दो शब्द हैं-सोना, रूपा. इन शब्दों वाला एक गीत है देव आनंद
की एक फिल्म जोशीला में आशा भोंसले का गाया हुआ. गीत इन्हीं शब्दों
से शुरू होता है.



गीत के बोल:

फिर नैन बाँवरे भर भर आये
हाय भर भर आये
फिर नैन बाँवरे भर भर आये
आहों की ओट में निकले
मेरे दिल से हाय हाय
आहों की ओट में निकले
मेरे दिल से हाय हाय
फिर नैन बाँवरे भर भर आये
हाय भर भर आये
फिर नैन बाँवरे भर भर आये

एक तो सूनी सेज हमारी दूजे रैन अँधेरी
रैन अँधेरी
एक तो सूनी सेज हमारी दूजे रैन अँधेरी
रैन अँधेरी
तीजे पहरे पे दुनिया है पेच  न जाये मेरी
तीजे पहरे पे दुनिया है पेच  न जाये मेरी
जब याद तुम्हारी आये
जब याद तुम्हारी आये
मेरा नन्हा सा जियरा धड़क जाये

फिर नैन बाँवरे भर भर आये
हाय भर भर आये
फिर नैन बाँवरे भर भर आये

रूपा न माँगू सोना न माँगू
रूपा न माँगू सोना न माँगू
माँगूँ तोसे ये दाम हो
माँगूँ तोसे ये दाम
हाड़ मास का पिंजरा जाये
साँस आये न आये
मेरे लब पे रहे पिया का नाम
वो प्यार करे हम दोनों
वो प्यार करे हम दोनों
जिस प्यार के किस्से जग गाये

फिर नैन बाँवरे भर भर आये
हाय भर भर आये
फिर नैन बाँवरे भर भर आये
………………………………………………………………………
Phir nain bawre bhar bhar-Do dil 1947

Artist: Suraiya

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP