September 14, 2016

सुनो कहो कहा सुना-आप की कसम १९७४

छोटे मुखड़े वाले गीतों पर कहीं जिक्र चल रहा था. उस समय
इस गीत को जिक्र शायद नहीं हुआ  बाद में हुआ तो हुआ हो.
ऐसे कुछ ही गीत है फिल्म संगीत के खजाने में.

ये एक प्रश्नोत्तर गीत है. ऐसे गीत इंटरेक्टिव से सुनाई देते हैं.
सुनने वाला इससे बंधा सा रहता है. आनंद बक्षी के खाते में
कई प्रश्नोत्तर गीत दर्ज हैं जिनमें से २ आप पहले सुन चुके हैं
इस ब्लॉग पर.

ये है आप की कसम फिल्म से लता और किशोर का गाया एक
लोकप्रिय गीत. संगीत आर डी बर्मन का है.



गीत के बोल:

सुनो  कहो
कहा  सुना
कुछ हुआ क्या?
अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं
सुनो  कहो
कहा  सुना
कुछ हुआ क्या?
हो अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं

अरे चली हवा
झुकी घटा
कुछ हुआ क्या?
हूं अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं

तेरी क़सम ये दिलकश नज़ारे
करते हैं इशारे जो समझे कोई
मेरे सनम ये खमोश आँखें
भी करती हैं बातें जो समझे कोई
समझा नहीं तुम समझा दो

अरे सुनो  हां कहो
कहा  अरे सुना
कुछ हुआ क्या?
अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं

बस जो चले तो सुबह से लेकर
रहूं शाम तक मैं तेरे संग में
गर हो सके तो मैं अपने दिल पर
तेरा नाम लिख दूँ हर इक रंग में
बातों में ना उलझाओ

अरे सुनो  हां कहो
हां कहा  सुना
कुछ हुआ क्या?
हो अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं

अच्छा कभी फिर बात छेड़ेंगे
मर्ज़ी नहीं है तुम्हारी अभी
कुछ हो गया तो बड़ी होगी मुश्किल
के छोटी उमर है हमारी अभी
मैं क्या करूँ  बतला दो

सुनो  हां कहो
कहा  अरे सुना
कुछ हुआ क्या?
अभी तो नहीं  कुछ भी नहीं

चली हवा
झुकी घटा
कुछ हुआ क्या?

ज़रा सा कुछ हुआ तो है
ज़रा सा कुछ हुआ तो है
ज़रा सा कुछ हुआ तो है
ज़रा सा कुछ हुआ तो है
…………………………………………………
Suno kaho-Aap ki kasam 1974

Artists: Rajesh Khanna, Mumtaz

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP