September 30, 2016

वो आये बहारें लाये-अफसाना १९५१

खामोश सा अफसाना सुनते सुनते सन १९५१ की फिल्म अफसाना
का एक गीत याद आ गया लता का गाया हुआ. गीत खुशनुमा
गीत है और इसे लिखा है असद भोपाली ने. फिल्म अफसाना का
निर्देशन बी आर चोपड़ा ने किया था और ये सन १९५१ की चर्चित
फिल्म है. अशोक कुमार और वीणा इसमें प्रमुख कलाकार हैं.

वीणा नाम की अभिनेत्री पर ही इस गीत को फिल्माया गया है.
वीणा फिल्म ‘चलती का नाम गाडी’ में भी हैं अशोक कुमार के
साथ, अगर आपको याद हो.

फिल्म अफसाना गीतों से भरपूर फिल्म है और इसमें १० गीत हैं.
गीतों की संख्या के मामले में उस समय की फ़िल्में सेहतमंद हुआ
करती थीं. कमर जलालाबादी ने हुस्नलाल भगतराम के लिए काफी
सारे गीत लिखे हैं मगर इस फिल्म में उनका लिखा एक भी गीत
नहीं है. 




गीत के बोल:

वो आये बहारें लाये बजी शहनाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई
वो आये बहारें लाये बजी शहनाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

जिया लहराए नज़र शरमाये शर्माए
नशा सा अंग अंग में डोले हो डोले
किसी को पा के तमन्ना जागे
किसी को देख के नैना बोले हो बोले
वो निकला चाँद चांदनी छाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

वो आये बहारें लाये बजी शहनाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

गगन पे नाच रहे हैं तारे
चमन में झूम रही हैं कलियाँ हो कलियाँ
बहुत दिन बाद हुई आबाद
ये मेरे प्यार की सूनी गलियां हो गलियां
मेरा दिल लेने लगा अंगडाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

वो आये बहारें लाये बजी शहनाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

फिजा में रंग है दिल के संग
उमंगें खले रही हैं होली हो होली
किसी ने एक नज़र में भर दी
हमारे अरमानों की झोली हो झोली
जवानी घूंघट में शरमाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई

वो आये बहारें लाये बजी शहनाई
रुत पिया मिलन की आई
हो रुत पिया मिलन की आई
........................................................
Wo aaye baharen laaye-Afsana 1951

Artist: Veena

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP