October 4, 2016

अंगना पधारो महारानी-माता भजन

शारदीय नवरात्रि का आज चौथा दिन है, तिथि है तृतीया. तृतीया
तिथि के दिन माँ के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा की पूजा की जाती है.
इनकी पूजा अर्चना से सभी पापों से मुक्ति मिलती है. साहस के
गुणों में वृद्धि होती है तथा वाणी में प्रभाव और व्यक्तित्व का
आकर्षण बढ़ता है. 

आज सुनते हैं बुन्देली अंचल से एक देवी भजन जो आजकल काफी
लोकप्रिय है. इसे मनीष अग्रवाल उर्फ मोनी ने गाया है. भजन माँ
शारदा को समरपी है जो माँ का ही एक स्वरुप है. माँ शारदा का
भव्य मंदिर मैहर नाम के स्थान में त्रिकूट पर्वत पर स्थित है.





भजन के बोल:


अरे हाँ
अंगना पधारो महारानी
हे मैया
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
रे अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
शारदा भवानी मोरी शारदा भवानी
कर दो कृपा महारानी मोरी शारदा भवानी
कर दो कृपा महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी

ऊँची पहाड़िया पे मंदिर बनो है
ऊँची पहाड़िया पे मंदिर बनो है
मंदिर में मैया के आसान लगो है
ऊँची पहाड़िया पे मंदिर बनो है
मंदिर में मैया को आसान लगो है
आसान पे बैठी महारानी मोरी शारदा भवानी
आसान पे बैठी महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी

रोगी को काया दे निर्धन को माया
रोगी को काया दे निर्धन को माया
बांझन पे किरपा ललन घर आया
बांझन पे किरपा ललन घर आया
मैया हे मोरी मैया
शारदा मैया बड़ी वरदानी मोरी शारदा भवानी
मैया बड़ी वरदानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी हे मोरी शारदा भवानी

मैहर में ढूंढी डोंगरगढ़ में ढूंढी
मैहर में ढूंढी डोंगरगढ़ में ढूंढी
कलकत्ता कटरा जालंधर में ढूंढी
हे मैहर में ढूंढी डोंगरगढ़ में ढूंढी
कलकत्ता कटरा जालंधर में ढूंढी
विजयराघव अरे विजयराघव
विजयराघवगढ में दिखानी मोरी शारदा भवानी
विजयराघवगढ में दिखानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी

मैहर को देखो या विजयराघवगढ़ को
मैहर को देखो या विजयराघवगढ़ को
अरे एकै दिखें मोरी मैया के मढ़ को
अरे एकै दिखें मोरी मैया के मढ़ को
मैहर को देखो या विजयराघवगढ़ को
एकै दिखें मोरी मैया के मढ़ को
महिमा ऐ माई महिमा
तुमरी महिमा
महिमा तुम्हारी नहीं जानी मोरी शारदा भवानी
महिमा तुम्हारी नहीं जानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी

मैया को भार सम्भाले रे पंडा
मैया को भार सम्भाले रे पंडा
हाथों में जिनके भवानी को झंडा
हाथों में जिनके भवानी को झंडा
मैया को भार सम्भाले रे पंडा
हाथों में जिनके भवानी को झंडा
झंडा पे मैया झंडा पे
अरे झंडा पे बैठी महारानी मोरी शारदा भवानी
झंडा पे बैठी महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी


अरे महिमा तुम्हारी भगत जो भी गाए
मोनी भी मैया में दर्शन को आए
महिमा तुम्हारी भगत जो भी गाए
मोनी भी मैया के चरनन को आए
महिमा तुम्हारी भगत जो भी गाए
मोनी भी मैया के दर्शन खें आए
कर दो
अरे कर दो मधुर मोरी वाणी हो मोरी शारदा भवानी
कर दो मधुर मोरी वाणी हो मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
शारदा भवानी मोरी शारदा भवानी
अंगना अरे अंगना
हे मैया अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
अंगना पधारो महारानी मोरी शारदा भवानी
कर दो कृपा महारानी मोरी शारदा भवानी
कर दो कृपा महारानी मोरी शारदा भवानी
...........................................................................
Angna padharo maharani-Mata bhajan

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP