October 17, 2016

चंदा को ढूँढने सभी तारे-जीने की राह १९६९

आपको ढेर सारे गायकों के गाये कुछ गीत सुनवा चुके हैं. ऐसे
गीत भी जिनमें ३  या ४ गायकों की आवाजें हैं आप सुन चुके
हैं इधर. काफी दिनों बाद फिर आपके लिए चार गायक कलाकारों
का गाया गीत सुनवा रहे हैं. ये है फिल्म जीने की राह से जो कि
सन १९६९ की फिल्म है.

फिल्म जीने की राह से आप ३ गीत सुन चुके हैं पहले जो लोकप्रिय
गीत हैं. ये कम सुना गया अनूठा गीत है. इस गीत के रचयिता भी
आनंद बक्षी हैं. बच्चों पर फिल्माया गया ये गीत मधुर है. गीत के
दोनों हिस्से वीडियो में मौजूद हैं.



गीत के बोल:

एक समय की बात सुनो
अंधियारी थी रात सुनो
दीपक चोरी हो गया
चाँद कहीं पर खो गया
फिर क्या हुआ

चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
गलियों में वो नसीब के मारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े

चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
गलियों में वो नसीब के मारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े

उनकी नज़र का जिसने नज़ारा चुरा लिया
उनके दिलों का जिसने सहारा चुरा लिया
उस चोर की तलाश में सारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े

ग़म की अंधेरी रात में जलना पड़ा उन्हें
फूलों के बदले काँटों पे चलना पड़ा उन्हें
धरती पे जब गगन के दुलारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े

उनकी पुकार सुन के ये दिल डगमगा गया
हमको भी कोई बिछड़ा हुआ याद आ गया
भर आई आँख आंसू हमारे निकल पड़े

चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
गलियों में वो नसीब के मारे निकल पड़े
चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
.........................................................................
Chanda ko dhoondhne sabhi-Jeene ki raah 1969

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP