October 17, 2016

हम हैं तेरे दीवाने-शबिस्तान १९५१

सी रामचंद्र और कमर जलालाबादी का कोम्बीनेशन दुर्लभ सा है
जहाँ तक हिंदी फिल्म संगीत का सवाल है. साजन, लीला(१९४७),
मेरा मुन्ना(१९४८) और शबिस्तान(१९५१) में दोनों ने साथ काम
किया और गीत बनाये. १९६७ में भी एक फिल्म आई थी जिसका
नाम है मेरा मुन्ना. इस फिल्म के गीत भी कमर जलालाबादी ने
लिखे मगर इस फिल्म में कल्याणजी आनंदजी का संगीत है.

सुनते हैं फिल्म शबिस्तान से तलत महमूद, गीता दत्त और स्वयं
सी रामचंद्र का गाया हुआ एक गीत. सी रामचंद्र ने बस शुरू में
दो ही पंक्तियाँ गाई हैं.





गीत के बोल:

हम हैं तेरे दीवाने
हम हैं तेरे दीवाने
हम हैं तेरे दीवाने गर तू बुरा न माने
हम हैं तेरे दीवाने गर तू बुरा न माने
किस्से हैं ये पुराने गर तू बुरा न माने
किस्से हैं ये पुराने गर तू बुरा न माने

ये गोरा गोरा मुखड़ा ये चाँद सी जवानी
धरती पे जैसे आई इक आसमाँ की रानी
ये गोरा गोरा मुखड़ा ये चाँद सी जवानी
धरती पे जैसे आई इक आसमाँ की रानी
अरे हमको चला बनाने गर तू बुरा न माने
हमको चला बनाने गर तू बुरा न माने

हम हैं तेरे दीवाने गर तू बुरा न माने

पहली नज़र में तुमने अपना बना लिया है
अपनी नज़र से पूछो मेरा क़सूर क्या है
पहली नज़र में तुमने अपना बना लिया है
अपनी नज़र से पूछो मेरा क़सूर क्या है
अरे ये हैं तेरे बहाने गर तू बुरा न माने
ये हैं तेरे बहाने गर तू बुरा न माने

हम हैं तेरे दीवाने गर तू बुरा न माने

सपने सजा सजा कर इक महल मैं बनाऊँ
रानी तुम्हें बना कर उस में तुम्हें बिठाऊँ
सपने सजा सजा कर इक महल मैं बनाऊँ
रानी तुम्हें बना कर उस में तुम्हें बिठाऊँ
ये तो हैं जेलखाने गर तू बुरा न माने
अरे ये तो हैं जेलखाने गर तू बुरा न माने

हम हैं तेरे दीवाने गर तू बुरा न माने
...............................................................
Ham hain tere deewane-Shabistan 1951

Artists: Shyam, Naseem Bano

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP