October 19, 2016

कोई मेरे दिल में ख़ुशी-अंदाज़ १९४९

५० के दशक के बाद तीन प्रमुख नायक उभरे अगली पीढ़ी
के-दिलीप कुमार, देव आनंद और राज कपूर. दिलीप कुमार
और देव आनंद ने केवल एक ही फिल्म में काम किया वो
है सन १९५५ की इंसानियत.

राज कपूर और दिलीप कुमार ने १९४९ की अंदाज़ में काम
किया इसमें नर्गिस अभिनेत्री हैं. प्रेम त्रिकोण पर बनी ये
फिल्म दुखांत है. अपने ज़माने की बड़ी हिट फिल्म के गीत
भी खूब बजे थे. आज भी इस फिल्म के गीत आप सुन
सकते हैं. फिल्म में कुल जमा १०  गीत हैं जिनमें से एक
आप सुन चुके हैं पहले.




गीत के बोल:

कोई मेरे दिल में
कोई मेरे दिल में ख़ुशी बन के आया
अंधेरा था घर रौशनी बन के आया
कोई मेरे दिल में

धड़कता है दिल
धड़कता है दिल जागती हैं उमंगें
धड़कता है दिल जागती हैं उमंगें
मोहब्बत की वो ज़िंदगी बन के आया

कोई मेरे दिल में
कोई मेरे दिल में ख़ुशी बन के आया
अंधेरा था घर रौशनी बन के आया
कोई मेरे दिल में

मोहब्बत ने छेड़ा है फिर साज़ दिल का
मोहब्बत ने छेड़ा है फिर साज़ दिल का
हो हो हो हो हो हो
वो हर तार की रागिनी बन के आया

कोई मेरे दिल में
कोई मेरे दिल में ख़ुशी बन के आया
अंधेरा था घर रौशनी बन के आया
कोई मेरे दिल में

समाया था जो दिल में जो इक दर्द बन कर
समाया था जो दिल में जो इक दर्द बन कर
ओ ओ ओ ओ ओ ओ ओ
वो होँठों पे मेरी हँसी बन के आया

कोई मेरे दिल में
कोई मेरे दिल में ख़ुशी बन के आया
अंधेरा था घर रौशनी बन के आया
कोई मेरे दिल में
...................................................................................
Koi mere dil mein-Andaz 1949

Artist: Nargis

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP