October 31, 2016

उनके ख़याल आए तो-लाल पत्थर १९७१

शंकर जयकिशन के १९७१ में बनाये गए बेहतर गीतों में से
एक है लाल पत्थर का रफ़ी का गाया ये गीत. रोचक गीत
है जिसमें नायक तबला बजा रहा है. अमूमन फिल्मों में
बेहतर गीत नायक को दिए जाते हैं होंठ हिलाने के लिए.

‘चले गए’ गाते गाते बड़े मियां हथेली अपनी तरफ कर रहे
हैं इस अंदाज़ में जैसे ख्याल जाने की जगह आ रहे हों.

ये तो फिल्म ही अलग हट के-है अतः इसमें अलग हट के
चीज़ें देखने के लिए बहुतेरी हैं. गीत हसरत जयपुरी का है
और आवाज़ रफ़ी की. फिल्म में तीन गीतकारों की सेवाएं
लीं गयीं हैं.



गीत के बोल:

उनके ख़याल आए तो आते चले गए
उनके ख़याल आए तो आते चले गए
दीवाना ज़िंदगी को बनाते चले गए

जो सांस आ रहा है किसी का पयाम है
जो सांस आ रहा है किसी का पयाम है
बेताबियों को और बढ़ाते चले गए

उनके ख़याल

इस दिल से आ रही है किसी यार की सदा
इस दिल से आ रही है किसी यार की सदा
वीरान मेरा दिल था बसाते चले गए

उनके ख़याल

होश-ओ-हवास पे मेरे बिजली सी गिर पड़ी
होश-ओ-हवास पे मेरे बिजली सी गिर पड़ी
मस्ती भरी नज़र से पिला के चले गए

उनके ख़याल आए तो आते चले गए
दीवाना ज़िंदगी को बनाते चले गए
उनके ख़याल
...........................................................................
Unke khayal aaye to-Lal Patthar 1971

Artist: Raj Kumar , Hema Malini

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP