October 3, 2016

लाल लाल चुनरी सितारों वाली-माता भजन

शारदीय नवरात्रि की द्वितीया तिथि पर होती है माँ के दूसरे
स्वरुप ब्रह्मचारिणी की पूजा आराधना होती है. माँ का यह
स्वरुप भक्तों और साधकों को ज्ञान, तप, वैराग्य, संयम और
सदाचार की भावना की बढोत्तरी में सहायक होता है.

माँ के दायें हाथ में जप की माला और बाएं हाथ में कमंडल है.
जीवन के परीक्षा वाले क्षणों में माता की पूजा आराधना भक्त
को संबल प्रदान करती है.

आज सुनते हैं लखबीर सिंह लक्खा का गाया हुआ एक माता
भजन.



भजन के बोल:

लाल लाल
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जय हो
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको भोले ने रंग में रंग डाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
हो ओ ओ जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

रंग चुनरी का शक्ति अपार देता
पाप मन में बसे इसको मार देता
पाप मन में बसे इसको मार देता
पाप मन में बसे इसको मार देता
रंग चुनरी का शक्ति अपार देता
पाप मन में बसे इसको मार देता
इसने सारी अला-बला भक्तों की टाली
इसने सारी अला-बला भक्तों की टाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जय हो
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको भोले ने रंग में रंग डाली
लाल लाल
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

जिसके कोने में रिद्धि सिद्धि रहती हैं
शुभ और लाभ भक्तों को देती हैं
शुभ और लाभ भक्तों को देती हैं
शुभ और लाभ भक्तों को देती हैं
जिसके कोने में रिद्धि सिद्धि रहती हैं
शुभ और लाभ भक्तों को देती हैं
हाँ भक्तों के मन को ये चुनरी भाने वाली
भक्तों के मन को ये चुनरी भाने वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जय हो
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

माँ के सर पे ये चुनरी सुहानी लगती
सारी दुनिया है माँ की दीवानी लगती
सारी दुनिया है माँ की दीवानी लगती
सारी दुनिया है माँ की दीवानी लगती
माँ के सर पे ये चुनरी सुहानी लगती
सारी दुनिया है माँ की दीवानी लगती
दुःख के बादल दूर ये भगाने वाली
दुःख के बादल दूर ये भगाने वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको भोले ने रंग में रंग डाली
लाल लाल
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

अपनी चुनरी की छाया में बिठा ले श्याम को
लक्खा जपते रहे माँ तुम्हारे नाम को
हम भी जपते रहे माँ तुम्हारे नाम को
हम भी जपते रहे माँ तुम्हारे नाम को
अपनी चुनरी की छाया में बिठा ले श्याम को
लक्खा जपते रहे माँ तुम्हारे नाम को
हम भक्तों को दे दे माँ अमृत की प्याली
हम भक्तों को दे दे माँ अमृत की प्याली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली

जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको ब्रह्मा ने बनाया जिसको विष्णु ने सजाया
जिसको भोले ने रंग में रंग डाली
लाल लाल
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
हो ओ ओ जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
लाल लाल चुनरी सितारों वाली सितारों वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
ओ जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
ओ जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
जिसे ओढ़ कर आई है माँ शेरा वाली
..........................................................................
Laal laal chunri-Mata bhajan

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP