November 29, 2016

हे मैंने कसम ली-तेरे मेरे सपने १९७१

उतार चढ़ाव वाले गीत बहुत से हैं फ़िल्मी संगीत के खजाने में.
कुछ उतार चढ़ाव उबड खाबड़ पहाड़ों वाले हैं तो कुछ रेत के धोरों
वाले स्मूथ. सुन कर अंदाजा लग जाता है और कान ही बतला
देते हैं कि गीत गुदगुदी कर रहा है या मालिश. मालिश भी दो
किस्म की होती है-पहलवानी और आहिस्ता से की जाने वाली.

आपने फिल्म तेरे मेरे सपने से एक ऐसा गीत सुना था पहले –
मेरा अंतर एक मंदिर . आज इसी फिल्म से एक मधुर युगल
गीत सुनते हैं जो किशोर और लता का गाया हुआ है-मैंने कसम
ली. उम्मीदों और संभावनाओं से भरपूर कसम खाओ हिट गीत.
तरह तरह की उपमाओं से लबालब ये गीत फिल्म का शीर्षक
गीत है. देव आनंद और मुमताज़ की जोड़ी वाली दो फ़िल्में मुझे
याद हैं-एक तो तेरे मेरे सपने और दूसरी हरे रामा हरे कृष्ण. बाद
वाली कमार्शियली ज्यादा सक्सेसफुल फिल्म है.



गीत के बोल:

हे मैंने क़सम ली
ली
हे तूने क़सम ली
ली
नहीं होंगे जुदा हम
हे मैंने क़सम ली

साँस तेरी मदिर मदिर जैसे रजनीगंधा
प्यार तेरा मधुर मधुर चाँदनी की गंगा
साँस तेरी मदिर मदिर जैसे रजनीगंधा
प्यार तेरा मधुर मधुर चाँदनी की गंगा
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा हम
मैंने क़सम ली
ली
हे तूने क़सम ली
ली
नहीं होंगे जुदा हम
हे मैंने क़सम ली

पा के कभी खोया तुझे खो के कभी पाया
जनम जनम तेरे लिये बदली हमने काया   
पा के कभी खोया तुझे खो के कभी पाया
जनम जनम तेरे लिये बदली हमने काया
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा हम...
मैंने क़सम ली
ली
हे तूने क़सम ली
ली
नहीं होंगे जुदा हम
हे मैंने क़सम ली

एक तन है एक मन है एक प्राण अपने
एक रंग एक रूप तेरे मेरे सपने
एक तन है एक मन है एक प्रण अपने
एक रंग एक रूप तेरे मेरे सपने
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा
नहीं होंगे जुदा हम
मैंने क़सम ली
ली
हे तूने क़सम ली
ली
नहीं होंगे जुदा हम
हे मैंने क़सम ली
......................................................................
Jeevan ki bagiya mehkegi-Tere mere sapne 1971

Artists-Dev Anand, Mumtaz

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP