November 5, 2016

तारा टूटे दुनिया देखे-मल्हार १९५१

कहते हैं टूटता तारा दिख जाए उस वक्त जो फरमाईश कर दो पूरी
होती है. गीत में तारा टूटने का किस्सा दिल से जोड़ा गया है. इस
दुनिया के तमाशे हर कोई देखता है मगर किसी दुखियारे का दर्द
महसूस एक आध ही करता है.

भौतिकवादी दुनिया कुछ ज्यादा ही भौतिकवादी हो चली है. विशेषकर
चार चक्रीय पेट्रोल अथवा डीज़ल इंजिन चलित डब्बे जब से जनता की
पहुँच में आये हैं, जनता को साइटिका और स्पोंडीलाइटिस की समस्या
खूब होने लगी है. इन बीमारियों में जोड़ जाम हो जाते हैं. गनीमत है
आँखों में ये बीमारियाँ नहीं होतीं. इसी सहूलियत की वजह से (बे)कार
चालक चाहे अपने परिचितों को देखें या नहीं, चौराहे पर भीख मांगते
अखबार या धुप से बचने वाली जालियां बेचती पब्लिक को देखने पर
मजबूर होते हैं. लाल से हरी बत्ती होने पर वे ऐसे भागते हैं मानो कोई
भिखारी या विक्रेता उनके वाहन का कांच तोड़ के भीतर घुसने वाला हो.

सुनते हैं इन्दीवर का लिखा और रोशन द्वारा संगीतबद्ध मुकेश का गाया
गीत जिसे फिल्म के नायक अर्जुन पर फिल्माया गया है.




गीत के बोल:

बसा ली दिल में तेरी याद
आंसू पोंछ लिए रहे तू शाद
हमारा है क्या जियें न जियें

तारा टूटे दुनिया देखे
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
तारा टूटे दुनिया देखे
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया

जितने भी तारे टूटें
होगा ना कभी अँधियारा
आसमान पर बहुत हैं तारे
दिल था एक हमारा
दिल था एक हमारा
टूट ना जाये क्यों दिल उसका
साथी जिसका छूट गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया

तारा टूटे दुनिया देखे
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया

चाँद को अपना दांव है प्यारा
छुपी है कोई कहानी
मैं भी छुपाये हूँ सीने मैं
किसी की एक निशानी
किसी की एक निशानी
कैसे मना लूं आँसू अपने
भाग ही मुझसे रूठ गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया

तारा टूटे दुनिया देखे
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
देखा ना किसी ने दिल टूट गया
................................................................................
Tara toote duniya dekhe-Malhar 1951

Artist: Arjun

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP