April 20, 2017

अप्रैल फूल बनाया-अप्रैल फूल १९६४

१ अप्रैल को मूर्ख दिवस के रूप में मनाया जाता है. कुछ
लोग इस दिन मूर्ख बनाते हैं तो कुछ लोग बनते हैं. बनने
और बनाने वाले दोनों प्रकार के लोग चाहिए इस प्रक्रिया के
लिए.

अप्रैल फूल के नाम से एक हिंदी फिल्म ही है. इस फिल्म में
विश्वजीत हीरो हैं. गीत रोमांटिक गीतों के लिए मशहूर हसरत ने
लिखा है. गौर से बोलों को सुनें तो लगेगा ये भी एक रोमांटिक
गीत ही है.



गीत के बोल:

ऐप्रिल फूल बनाया
तो उनको गुस्सा आया
तो मेरा क्या कुसूर
ज़माने का कसूर
जिसने दस्तूर बनाया

दिलबर ओ जाने जाना
गुस्से के रूप में लगती हो और हसीन
तेरी क़ातिल अदा ने मार ही डाला
कर लो तुम इसका यक़ीन

ऐप्रिल फूल बनाया
तो उनको गुस्सा आया
तो मेरा क्या कसूर
ज़माने का मसूर
जिसने दस्तूर बनाया

दिल से दिल की पहचान हुई
जागी मुहब्बत गाने लगी ज़िन्दगी
हमने दुनिया में आ कर
वो रूप धरा  जिंदा हुई आशिकी

ऐप्रिल फूल बनाया
तो उनको गुस्सा आया
तो मेरा क्या कसूर
ज़माने का कसूर
जिसने दस्तूर बनाया
....................................................
April Fool Banaya-April Fool 1964

Artists: Biswajeet, Saira Bano

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP