November 20, 2017

आ प्यार के रंग भरें-जीना तेरी गली में १९९१

सन १९९१ की चर्चित फिल्म है जीना तेरी गली में जिसके
गीत काफी बजे थे. इस फिल्म से अगला गीत सुनते हैं
अनुराधा पौडवाल और मोहम्मद अज़ीज़ का गाया हुआ.
रवींद्र रावल की ये रचना है और बाबुल बोस का संगीत.

फिल्म की स्टारकास्ट कुछ इस तरह है-सूरज, कविता कपूर,
अमिता नागिया, अर्चना पूरण सिंह, शम्मी और कुनिका.
फिल्म के निर्माण टी सीरीज़ ने किया और निर्देशन का काम
टीनू आनंद ने किया.



   
गीत के बोल:

आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
यूं सुनें हम दिल की बातें
यूं सुनें हम दिल की बातें अपनी आवाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
यूं सुनें हम दिल की बातें
यूं सुनें हम दिल की बातें अपनी आवाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में

जिसने दिल धड़काया उस पल को हम याद करें
उस पल की यादों से नगमे हम आबाद करें
संगीत नया जागा हो
संगीत नया जागा धड़कन के इन साज़ों में

आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
यूं सुनें हम दिल की बातें
हो यूं सुनें हम दिल की बातें अपनी आवाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में

मिलना और बिछुड़ना इस जीवन की रीत रही
कितने रूप बदले मन में लेकिन प्रीत रही
हैं रंग वफ़ाओं के
हैं रंग वफ़ाओं के अपने इन अन्दाज़ों में

आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
यूं सुनें हम दिल की बातें
हो यूं सुनें हम दिल की बातें अपनी आवाज़ों में
आ प्यार के रंग भरें प्यारे अल्फ़ाज़ों में
………………………………………………………..
Aa pyar ke rang bharen-Jeena teri gali mein 1991

Read more...

November 19, 2017

न जाने क्यूँ हमारे दिल को-मोहब्बत जिंदगी है १९६६

प्यार इश्क और मोहब्बत ही जिंदगी है वरना रखा क्या है जीने
में. ऐसा कुछ दार्शनिकों, कवियों और प्रेमियों मानना है. मोहब्बत
किसी से भी हो सकती है.

रफ़ी का गाया ये पॉपुलर गीत सुनते हैं सन १९६६ की फिल्म से
जिसका नाम है-मोहब्बत जिंदगी है. एस एच बिहारी के बोल हैं
और ओ पी नैयर का संगीत.     प्रस्तुत गीत धर्मेन्द्र और राजश्री पर
फिल्माया गया है और गीत में थोड़ी सी रोमांटिक कुश्ती भी हो
रही है.




गीत के बोल:

न जाने क्यूँ
न जाने क्यूँ हमारे दिल को तुमने दिल नहीं समझा
ये शीशा तोड़ डाला
ये शीशा तोड़ डाला प्यार के काबिल नहीं समझा
न जाने क्यूँ

हमारा प्यार देखो और हमारा हौसला देखो
हमारा प्यार देखो और हमारा हौसला देखो
मोहब्बत का जुनून हमको कहाँ तक ले चला देखो
तुम्ही ने जान ले ली
तुम्ही ने जान ले ली और तुम्हे क़ातिल नहीं समझा
न जाने क्यूँ
न जाने क्यूँ हमारे दिल को तुमने दिल नहीं समझा
न जाने क्यूँ

तड़प दी भी तो ऐसी दी के मुश्किल हो गया जीना
चलाये तीर वो तुमने के छलनी हो गया सीना
और उस पर ये सितम है
और उस पर ये सितम है के हमे घायल नहीं समझा
न जाने क्यूँ
न जाने क्यूँ हमारे दिल को तुमने दिल नहीं समझा
न जाने क्यूँ

मोहब्बत का ये जादू एक दिन सर चढ़ के बोलेगा
मोहब्बत का ये जादू एक दिन सर चढ़ के बोलेगा
हर एक आँधी हर एक तूफान को दामन में ले लेगा
मोहब्बत ने किसी भी
मोहब्बत ने किसी भी काम को मुश्किल नहीं समझा
न जाने क्यूँ
न जाने क्यूँ हमारे दिल को तुमने दिल नहीं समझा
न जाने क्यूँ
...........................................................................
Na jaane kyon hamre dil ko-Mohabbat zindagi hai 1966

Artists: Dharmendra, Rajshri

Read more...

November 18, 2017

इंसान मोहब्बत में कुछ काम-नर्तकी १९६३

आशा भोंसले का गाया एक गीत सुनते हैं फिल्म नर्तकी से.
पुराने ज़माने के गीतों की तरह इसमें पंक्तियाँ कई बार गाई
गई हैं. गीत कव्वालीनुमा है और कव्वालियों में पंक्तियाँ कई
कई बार दोहराने की परंपरा है.

शकील के बोल हैं और रवि का संगीत. इस फिल्म से रफ़ी का
गाया एक गीत आप सुन चुके हैं पहले.





गीत के बोल:

इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए

ऐ प्यार के दीवानों दुनिया है क़यामत की
ऐ प्यार के दीवानों दुनिया है क़यामत की
किस्मत पे न रख देना दुनिया जो मोहब्बत की
किस्मत पे न रख देना दुनिया जो मोहब्बत की
किस्मत का भरोसा क्या बिगड़े के संवर जाए
किस्मत का भरोसा क्या बिगड़े के संवर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए

इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए

मायूस भी हैं नज़रें उम्मीद भी है बाकी
मायूस भी हैं नज़रें उम्मीद भी है बाकी
ये कौन सा आलम है अब तू ही बता साकी
ये कौन सा आलम है अब तू ही बता साकी
ये कौन सा आलम है अब तू ही बता साकी
आखिर तेरा दीवाना जाए तो किधर जाए
आखिर तेरा दीवाना जाए तो किधर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए

इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए

छलके हुए अश्कों को मुश्किल नहीं पी लेना
छलके हुए अश्कों को मुश्किल नहीं पी लेना
गम ये है के मोहब्बत में आसान है जी लेना
गम ये है के मोहब्बत में आसान है जी लेना
वो कैसे जिए जिसका गम हद से गुजर जाए
वो कैसे जिए जिसका गम हद से गुजर जाए
या ढूंढ ले साहिल को या डूब के मर जाए

इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
इंसान मोहब्बत में कुछ काम तो कर जाए
......................................................................
Insaan mohabbat mein kuchh kaam-Nartaki 1963

Read more...

November 17, 2017

नाचे मन मोरा मगन-मेरी सूरत तेरी आँखें १९६३

एक क्लासिकल गीत सुनते हैं रफ़ी का गाया हुआ. इसे परदे
पर अशोक कुमार गा रहे हैं. अशोक कुमार ने अपनी जवानी
में फिल्मों में कई गीत गाये. इस फिल्म में उनका किरदार
एक गायक है.

स्टेज शो हो रहा है जिसमें आशा पारेख गीत पर नृत्य कर
रही हैं. दर्शक दीर्घा में प्रदीप कुमार बैठे नज़र आ रहे हैं. इस
गीत के रचयिता हैं शैलेन्द्र और संगीत तैयार करने वाले
संगीतकार हैं एस डी बर्मन.




गीत के बोल:


नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
बदरा घिर आये, रुत है भीगी भीगी
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
तिगदा धीगी धीगी तिगदा

कुहुके कोयलिया कुहुके कोयलिया
कहीं दूर पपीहा पुकारे
झूला झूलें सखियाँ झूला झूलें सखियाँ
के घर आजा बालम हमारे
घिर आये
बदरा घिर आये रुत है भीगी भीगी
नाचे मन मोरा मगन तिगदा
नाचे रे मन मोरा रे
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
तिगदा धीगी धीगी तिगदा

यहीं रुक जाये यहीं रुक जाये
ये शाम आज ढलने न पाये
टूटे न ये सपना टूटे न ये सपना
कोई अब मुझे न जगाये
घिर आये
बदरा घिर आये रुत है भीगी भीगी
नाचे मन मोरा तिगदा धीगी धीगी
ए नाचे मन मोरा रे
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
तिगदा धीगी धीगी तिगदा

छुप छुप ऐसे में छुप छुप ऐसे में
कोई मधुर गीत गाये
गीतों के बहाने गीतों के बहाने
छुपी बात होंठों पे आये
घिर आये बदरा घिर आये
रुत है भीगी भीगी
नाचे मन मोरा तिगदा
हे ए ए नाचे मन मोरा
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
तिगदा धीगी धीगी तिगदा
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
नाचे मन मोरा मगन तिगदा धीगी धीगी
.......................................................................
Nache man mora-Meri surat teri aankhen 1963

Artists: Ashok Kumar, Asha Parekh, Pradeep Kumar

Read more...

मुझसे जुदा हो कर २-हम आपके हैं कौन १९९४

हमारी फिल्मों में कई बार एक गीत के कई संस्करण भी
उपलब्ध होते हैं. कहानी की मांग और निर्माता निर्देशक
की पसंद अनुसार ऐसा होता है. कभी नायक नायिका की
मांग को भी ध्यान में रखते हुए गीत का दूसरा संस्करण
तैयार हो जाता है. ये सब आपको दक्षिण भारतीय और
हिंदी के अलावा दूसरी भाषाओँ वाली फिल्मों में भी देखने
मिलेगा.

फिल्म हम आपके हैं कौन से एक गीत हमने आपको
सुनवाया था पहले. उसका धीमा संस्करण सुनते हैं आज.
अक्सर धीमे संस्करण सैड सोंग के रूप में ही प्रयोग में
लाये जाते हैं.



गीत के बोल:

मैं प्यार की यादें दिल से मिटा दूँगी
फ़र्ज़ की खातिर सब कुछ भुला दूँगी

तुझको निभाना है जो फ़र्ज़ है तेरा
कैसे चुकाऊँगा ये क़र्ज़ मैं तेरा
सजदे में अब तेरे ये सर झुकाना है
सजदे में अब तेरे ये सर झुकाना है
……………………………………………….
Mujhse juda ho kar-Hum aapke hain kaun 1994

Artists: Madhuri Dixit, Salman Khan

Read more...
© Geetsangeet 2009-2017. Powered by Blogger

Back to TOP