April 20, 2017

बिजली गिराने..हवा हवाई-मिस्टर इंडिया १९८७

कविता कृष्णमूर्ति का गाया एक गीत सुनते हैं. कविता
का गीत सुने काफी दिन हो गए हैं. लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
नेकविता कृष्णमूर्ति से काफी सारे गीत गवाए हैं. इनके
लोकप्रिय गीतों में से एक है फिल्म मिस्टर इण्डिया का
एक गीत-हवा हवाई.

इलेक्ट्रिसिटी गिराने वाला ये गीत रोचक है और इसे
जनता ने इसके हवा-हवाई जैसे शब्दों की वजह से भी
काफी पसंद किया. धुन तो इसकी कैची है ही. इस गीत
को जावेद अख्तर ने लिखा है.



गीत के बोल:

हवा हवाई
अ वी वी वी
हवा हवाई
अ वी वी वी
हे हां होनोलूलू लू लू
हींग पीकिंग किंग हांगकांग किंगकोंग
आई सी लूसी ऊ सी लूसी
हंसी तुसी लस्सी पीसी
मोम्बासा ??
ऊई ऊई ऊई ऊई ऊई वई

मैं ख़्वाबों की शहज़ादी
मैं हूँ हर दिल पे छाई
मैं ख़्वाबों की शहज़ादी
मैं हूँ हर दिल पे छाई
बादल हैं मेरी ज़ुल्फ़ें
बिजली मेरी अंगड़ाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
ओ हो बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
हो बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई

समझे क्या हो नादानों  मुझको पोली ना जानो
मैं हूँ साँपों की रानी  काटा मांगे ना पानी
सागर से मोती छीनूं  दीपक से ज्योति छीनूं
पत्थर से आग लगा लूं  सीने से राज़ चुरा लूं
राज़ चुरा लूं हां राज़ चुरा लूं
जीनों जो तुमने बात छुपाई
हो जानूं जो तुमने बात छुपाई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई

लाई रंगीन अफ़साने  तू भी सुन ले दीवाने
आ दिल में हलचल कर दूं  आ तुझको पागल कर दूं
मेरी आँखों में जादू  मेरी साँसों में ख़ुशबू
जब मेरा ये तन लचके  जाएये ना कोई बच के
कोई बच के जी कोई बच के हाँ हाँ कोई बच के
सूरत ही मैंने ऐसी पाई
सूरत ही मैंने ऐसी पाई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई
बिजली गिराने मैं हूँ आई
हो बिजली गिराने मैं हूँ आई
कहते हैं मुझको हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई हवा हवाई
हवा हवाई
हवा हवाई
हवा हवाई
हवा हवाई
……………………………………………
Bijli girane main hoon aayi-Mr. India 1987

Artist: Sridevi

0 comments:

© Geetsangeet 2009-2016. Powered by Blogger

Back to TOP